हिन्दी भारत की शान

हिन्दी सबकी शान है, सभी करें सम्मान।भाषा है प्यारी सुघड़, सरल सुगम गुण खान।।वस्तुत: हिन्दी भारत की शान है। इसकी भाषा सुघड़ (सुन्दर) और प्यारी है ही, सरल, सुगम तथा… हिन्दी भारत की शानRead more

Spread the love

प्रेरक कथा-कुमकुम कुमारी

रखेंगे ध्यान बेटा यह क्या कर रहे हो? क्यों कचरे के बाल्टी में हाथ डाल रहे हो? माँ मैं कचरे में से पॉलीथिन निकाल रहा हूँ। देखो न माँ कामवाली… प्रेरक कथा-कुमकुम कुमारीRead more

Spread the love

समाज के पथ-प्रदर्शक संत कबीर दास

” समाज के पथ-प्रदर्शक संत कबीर दास “ ✍️सुरेश कुमार गौरव संत कबीर दास को समाज सुधारक के तौर पर जाना जाता है। आज भी उनकी रचनाओं को मंदिरों और… समाज के पथ-प्रदर्शक संत कबीर दासRead more

Spread the love

अंतरात्मा की आवाज

*अंतरात्मा की आवाज़* अंतरात्मा हमारे शरीर में विद्यमान वह सूक्ष्म अमूर्त सत्ता है जिसे अच्छा-बुरा, सही-गलत का स्पष्ट ज्ञान होता है और जो हमें निरंतर उच्च सिद्धान्तों के पथ पर… अंतरात्मा की आवाजRead more

Spread the love

चौथा प्रमाण

लघुकथा- “चौथा प्रमाण” ✍️सुरेश कुमार गौरव एक बार एक निजी स़ंस्था के अधिकारी को कार्यालय के लिए एक परिश्रमी और निष्ठावान सचिव की जरुरत पड़ी।उन्होंने इस बात का विज्ञापन कुछ… चौथा प्रमाणRead more

Spread the love

चंचल वन में जलेबी दौड़ – निधि चौधरी

चंचल वन में जलेबी दौड़ का आयोजन किया गया। राजा शेर सिंह ने सबको कबूतर काका द्वारा यह संदेश भिजवाया। सभी जानवरों में उत्साह का माहोल था। खेल का नियम… चंचल वन में जलेबी दौड़ – निधि चौधरीRead more

Spread the love

माखनलाल चतुर्वेदी-हर्ष नारायण दास

भारत की मिट्टी ने एक ऐसा तपः पूत रचा जो आत्मा से गाँधी था, आस्था में क्रान्ति, गति में कर्म था और राष्ट्र में सम्पूर्ण जीवित राष्ट्रीयता, वाणी, वीणा, वेणु… माखनलाल चतुर्वेदी-हर्ष नारायण दासRead more

Spread the love

संदिग्ध आँखें-विजय सिंह नीलकण्ठ

संदिग्ध आँखें            बाजार से लौटते समय जिग्नेश की बाइक के दाईं मीरर पर किसी गाड़ी के आने का प्रकाश दिखा जो बड़ी तेजी से आ… संदिग्ध आँखें-विजय सिंह नीलकण्ठRead more

Spread the love

संत रविदास -पूर्व जन्म -नीतू रानी

अंत मति सो गति , मरने के समय आप का मन जिधर जाएगा ।फल आपको उसी के अनुसार मिलेगा।मरने के समय आपका मन अगर बेटा-बेटी पर गया तब आपको सुअर… संत रविदास -पूर्व जन्म -नीतू रानीRead more

Spread the love

अध्यात्मिक प्रसंग स्वामी विवेकानन्द – सुधीर कुमार

क बार नरेंन्द्रनाथ ( स्वामी विवेकानन्द का बचपन का नाम ) रामकृष्ण परमहंस से मिलने के लिए दक्षिणेश्वर ( कोलकाता ) पहूँचे । कुछ देर तक बातचीत के बाद वे उनसे से काफी प्रभावित हुए । उन्होंने उनसे पूछा , ” आपने भगवान को देखा है ? ”
परमहंस जी ने उत्तर दिया ,” हाँ , देखा है और बिल्कुल वैसे ही देखा है जैसे तुम्हें देख रहा हूँ । “

Spread the love