गद्य गुँजन - Page 28 of 28 - Teachers of Bihar- The Change Makers

वो छोटी सी लड़की-प्रियंका कुमारी

वो छोटी सी लड़की            कभी-कभी राह चलते हुए भी हमें एक पल की घटना अंदर तक झकझोर कर रख देती है। हम निःशब्द हो जाते… वो छोटी सी लड़की-प्रियंका कुमारीRead more

Spread the love

पाई अनुमोदन दिवस-नसीम अख्तर

पाई अनुमोदन दिवस होड़ मची संख्याओं के बीच, है कौन सबसे महान। किसकी पूजा हो पहले, किसकी हो पहले पहचान।।   सब अपनी करते थे बड़ाई, फिर उनमें हो गई… पाई अनुमोदन दिवस-नसीम अख्तरRead more

Spread the love

कृष्णा का आग्रह-आँचल शरण

कृष्णा का आग्रह           रविवार का दिन था “कृष्णा” के घर वाले घर की सफाई में लगे हुए थे और उसका छोटा भाई बाजार से कुछ… कृष्णा का आग्रह-आँचल शरणRead more

Spread the love

जुनून-अरविंद कुमार

जुनून शाम के 4 बज रहे थे, जवाहर उच्च विद्यालय भरगामा के मैदान पर भरगामा क्रिकेट टीम के खिलाड़ी क्रिकेट खेल रहे थे। हर रोज की तरह आज भी किशन… जुनून-अरविंद कुमारRead more

Spread the love

गलती से मिली सीख-आँचल शरण

  गलती से मिली सीख एक दिन मैं लंच के समय अपने विद्यालय के बाहर बरामदे पर बैठ कर कुछ प्रशासनिक कार्य कर रही थी तभी वहाँ एक 15-16 साल… गलती से मिली सीख-आँचल शरणRead more

Spread the love

जानवरों का न्यायालय-रीना कुमारी

जानवरों का न्यायालय एक जंगल था। उसमें सभी जानवर प्रेम पूर्वक रहते थे। जंगल के बीच में जानवरों द्वारा एक न्यायालय खोला गया जिसका नाम जानवर न्यायालय रखा गया। बंदर… जानवरों का न्यायालय-रीना कुमारीRead more

Spread the love

परिश्रम का फल-नूतन कुमारी

परिश्रम का फल अनिल और सुनील दो दोस्त थे। दोनों जंगल में रहते थे। वे दोनों शहद का छत्ता तोड़कर और जंगल से लकड़ियाँ काटकर शहर में बेचते थे। शहद… परिश्रम का फल-नूतन कुमारीRead more

Spread the love

पूर्णिमा-विजय सिंह “नीलकण्ठ”

पूर्णिमा              बहुत समय पहले की बात है। किसी गाँव में माधो नाम का एक किसान रहता था जिसको एक पुत्री थी पूर्णिमा। चुँकी बच्ची… पूर्णिमा-विजय सिंह “नीलकण्ठ”Read more

Spread the love