समाज के पथ-प्रदर्शक संत कबीर दास

” समाज के पथ-प्रदर्शक संत कबीर दास “ ✍️सुरेश कुमार गौरव संत कबीर दास को समाज सुधारक के तौर पर जाना जाता है। आज भी उनकी रचनाओं को मंदिरों और… समाज के पथ-प्रदर्शक संत कबीर दासRead more

Spread the love

अंतरात्मा की आवाज

*अंतरात्मा की आवाज़* अंतरात्मा हमारे शरीर में विद्यमान वह सूक्ष्म अमूर्त सत्ता है जिसे अच्छा-बुरा, सही-गलत का स्पष्ट ज्ञान होता है और जो हमें निरंतर उच्च सिद्धान्तों के पथ पर… अंतरात्मा की आवाजRead more

Spread the love

चौथा प्रमाण

लघुकथा- “चौथा प्रमाण” ✍️सुरेश कुमार गौरव एक बार एक निजी स़ंस्था के अधिकारी को कार्यालय के लिए एक परिश्रमी और निष्ठावान सचिव की जरुरत पड़ी।उन्होंने इस बात का विज्ञापन कुछ… चौथा प्रमाणRead more

Spread the love

पिता-नूतन कुमारी

पिता           पिता को शब्दों में परिभाषित करना मुमकिन नहीं है क्योंकि पिता की सीमाएं अनंत है। पिता से ही हमारी पहली पहचान होती है। जब… पिता-नूतन कुमारीRead more

Spread the love

हिंदी की बिंदी-बीनू मिश्रा

हिंदी की बिंदी           प्यारे बच्चों, आप अच्छी तरह से तो पढ़ना लिखना सीख ही गए हो। हिंदी पढ़ते समय आपने कुछ अक्षरों पर बिंदी लगी… हिंदी की बिंदी-बीनू मिश्राRead more

Spread the love

सत्कर्म का फल-ब्रह्माकुमारी मधुमिता सृष्टि

सत्कर्म का फल           एक दिन अंबर नाम का ग्वाला सुबह दूध लेकर बेचने को निकला। वह दूध बेचकर घर की ओर लौट रहा था कि… सत्कर्म का फल-ब्रह्माकुमारी मधुमिता सृष्टिRead more

Spread the love

बिहार गाथा-अनुज वर्मा

बिहार गाथा                   सर्व प्रथम बिहार के लोगों को स्वतंत्र गौरवशाली स्वर्णिम बिहार प्रांत के लिए तन मन और धन न्यौछावर करने… बिहार गाथा-अनुज वर्माRead more

Spread the love

प्रवेशोत्सव-अशोक कुमार

प्रवेशोत्सव           मैं राज्य सरकार द्वारा संचालित कार्यक्रम प्रवेशोत्सव में सभी दोस्तों का कोटि-कोटि अभिनंदन करता हूं। इस कार्यक्रम की शुरुआत 8 मार्च 2021 तथा समापन… प्रवेशोत्सव-अशोक कुमारRead more

Spread the love

हमारा देश हमारी जिम्मेदारी-शालिनी कुमारी

हमारा देश हमारी जिम्मेदारी           अपने देश की जिम्मेदारी निभाने के लिए किसी विशेष समय या परिस्थिति की आवश्यकता नहीं होती। यह हमारा मौलिक कर्तव्य है… हमारा देश हमारी जिम्मेदारी-शालिनी कुमारीRead more

Spread the love

गिजुभाई बधेका का जीवन-हर्ष नारायण दास

गिजुभाई बधेका का जीवन           गिजुभाई बधेका का जन्म 15 नवम्बर 1885 को पश्चिम भारत के सौराष्ट्र स्थित चित्तल में हुआ था।उनका पालन-पोषण गुजरात के भावनगर… गिजुभाई बधेका का जीवन-हर्ष नारायण दासRead more

Spread the love