प्रत्युपकार Archives - गद्य गुँजन

प्रत्युपकार-जैनेन्द्र प्रसाद रवि

प्रत्युपकार           एक लड़का चौराहे से गुजरते हुए एक दंपत्ति के सामने गिड़-गिड़ाकर बोला- माता जी मैं दो दिनों से भूखा हूँ एक रूपया दे दें।… प्रत्युपकार-जैनेन्द्र प्रसाद रविRead more

Spread the love