Tobkahani Archives - गद्य गुँजन

अंतरात्मा की आवाज

*अंतरात्मा की आवाज़* अंतरात्मा हमारे शरीर में विद्यमान वह सूक्ष्म अमूर्त सत्ता है जिसे अच्छा-बुरा, सही-गलत का स्पष्ट ज्ञान होता है और जो हमें निरंतर उच्च सिद्धान्तों के पथ पर… अंतरात्मा की आवाजRead more

Spread the love

चंचल वन में जलेबी दौड़ – निधि चौधरी

चंचल वन में जलेबी दौड़ का आयोजन किया गया। राजा शेर सिंह ने सबको कबूतर काका द्वारा यह संदेश भिजवाया। सभी जानवरों में उत्साह का माहोल था। खेल का नियम… चंचल वन में जलेबी दौड़ – निधि चौधरीRead more

Spread the love

पूर्णिमा-विजय सिंह “नीलकण्ठ”

पूर्णिमा              बहुत समय पहले की बात है। किसी गाँव में माधो नाम का एक किसान रहता था जिसको एक पुत्री थी पूर्णिमा। चुँकी बच्ची… पूर्णिमा-विजय सिंह “नीलकण्ठ”Read more

Spread the love