हम परिस्थितियों से अधिक शक्तिशाली हैं-ब्रह्मकुमारी मधुमिता 'सृष्टि' - गद्य गुँजन

हम परिस्थितियों से अधिक शक्तिशाली हैं-ब्रह्मकुमारी मधुमिता ‘सृष्टि’

Madhumita

हम परिस्थितियों से अधिक शक्तिशाली हैं

          जीवन यात्रा में परिस्थितियां कभी एक जैसी नहीं होती इसलिए हमें परिस्थितियों से अधिक शक्तिशाली बनना है तभी हम अपने जीवन को आसान बना पाएंगे। आज covid-19 है, कल कुछ और आएगा। इसके लिए हमें स्वयं को तैयार रखना है और हर परिस्थिति में शांत होकर बचाव और सुरक्षा का मार्ग ढूंढना है।

कोरोना के कहर से बचना हो तो करें यह दो उपाय
पहला परमात्मा पे विश्वास और दूसरा अपने विचारों को सकारात्मक बनाएं।
आपने यह दो पंक्तियां अवश्य सुनी होंगी-

ये मत कहो खुदा से मेरी मुश्किलें बड़ी है,

मुश्किलों से कह दो मेरा खुदा बड़ा है।

मेरे प्यारे भाइयों और बहनों आज वह समय आ गया है जब आप इन पंक्तियों को गुनगुनाते हुए अपने जीवन को सकारात्मक बनाएं और परमात्मा की शक्ति को पहचानें। हम मनुष्य आत्माएं परमात्मा की संतान है, परमात्मा की सारी शक्तियां हम में विद्यमान हैं, कहीं किसी से कुछ भी मांगने की आवश्यकता नहीं। हे प्यारी आत्माएं अपनी शक्तियों को पहचानो, ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना हो तुम, सर्व शक्तिमान की संतान हो तुम, फिर यह कोरोना या फिर और भी कोई बड़ी से बड़ी महामारी हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकती। परमपिता परमात्मा के साथ को अनुभव करो, अपने घरों में बैठकर चारों ओर सकारात्मक ऊर्जा का प्रकम्पन फैलाओ। भय के वातावरण को दूर करो, स्वयं को और दूसरों को भयमुक्त बनाओ। भय का वातावरण मनुष्य का धैर्य और विवेक खो देता है, इसलिए धैर्य रखते हुए अपने विवेक से काम लो, कोरोना कोई जानलेवा बीमारी नहीं है, इसका इलाज संभव है, जरा सी की सतर्कता हमें इस बीमारी से बचाव करने में हमारी मदद कर सकती है। मास्क लगाएं हाथों को बार-बार धोएं, यह कोई बहुत बड़ा काम नहीं है। सरकार अपना काम कर रही है, वैक्सीन दिलाए जा रहे हैं, बीमार लोगों का ईलाज भी हो रहा है। इसलिए इस बीमारी से डरकर या घबरा कर अपने प्राण न दें। स्वयं भी सम्भलें और दूसरों का सहारा बनें। एक दूसरे को सहयोग देकर बीमारी से लड़ने की शक्ति दें। इतिहास साक्षी है जो आया है वह जाएगा ही। बड़ी से बड़ी विपदा आई पर चली गई, यह वक्त भी गुजर जायेगा, थोड़ा धैर्य रखें।

परमात्मा से योग लगाएं, परमात्मा की शक्तियों को अपने अंदर भरें, इस समय इसकी बहुत आवश्यकता है। योग से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जो अभी बहुत आवश्यक है। हमें स्वयं को कोरोना वायरस से अधिक शक्तिशाली बनाना हैं तभी हम उसका सामना कर पाएंगे।

इस समय को हम सकारात्मक होकर देखें तो आज कुदरत ने हमें वह वक्त दिया है जिसकी हमसभी को आवश्यकता थी। हम सभी इस भागमभाग भरी जिंदगी में अपनी सृजनात्मकता को भूल गए हैं। आज वो वक्त मिला है जब हम घर में रहकर अपने उस सपने को साकार करें। जो भी दबी हुई ख्वाहिशें थी, अब उसे पूरा करें। घर में रहकर भी अपने को व्यस्त रखें।

वक्त चाहे जैसा भी हो उसे सार्थक करना हमारे हाथों में हैं। इसलिए घर पर रहें, मास्क लगाएं, स्वस्थ रहें, सुरक्षित रहें, एक दूसरे को सहयोग दें, तथा इस बहुमूल्य समय को व्यर्थ न गवाएं। वक्त मिला है तो क्यों न इसे सार्थक करेंं।

ॐ शांति
✍️✍️✍️ब्रह्मकुमारी मधुमिता ‘सृष्टि’
पूर्णियाँ (बिहार)

Spread the love

2 thoughts on “हम परिस्थितियों से अधिक शक्तिशाली हैं-ब्रह्मकुमारी मधुमिता ‘सृष्टि’

  1. सकरात्मक सोच के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद आपको🙏🙏

  2. वर्तमान संदर्भ में सारगर्भित लेख। बहुत सुंदर!💐💐

Leave a Reply

%d bloggers like this: