जैनेन्द्र प्रसाद रवि Archives - गद्य गुँजन

समझदारी-जैनेन्द्र प्रसाद रवि

समझदारी           प्रतिदिन की तरह आज भी रोहित जब सुबह की सैर करते हुए सड़क किनारे जले इक्का, दुक्का स्ट्रीट लाइट को बुझाते हुए मस्जिद वाले… समझदारी-जैनेन्द्र प्रसाद रविRead more

Spread the love

सफलता का रहस्य-जैनेन्द्र प्रसाद रवि

सफलता का रहस्य           एक छोटा बच्चा जो बहुत ही जिज्ञासु और होनहार था एक दिन अपने पिता से पूछा-पिताजी सफलता का रहस्य क्या है? उसके… सफलता का रहस्य-जैनेन्द्र प्रसाद रविRead more

Spread the love

प्रत्युपकार-जैनेन्द्र प्रसाद रवि

प्रत्युपकार           एक लड़का चौराहे से गुजरते हुए एक दंपत्ति के सामने गिड़-गिड़ाकर बोला- माता जी मैं दो दिनों से भूखा हूँ एक रूपया दे दें।… प्रत्युपकार-जैनेन्द्र प्रसाद रविRead more

Spread the love

दायित्वबोध-जैनेन्द्र प्रसाद रवि

दायित्वबोध                     मध्याह्न भोजन के पश्चात बच्चे खेलने में व्यस्त थे। शिक्षक- शिक्षिकाएँ भी आपसी बातचीत में मशगूल थे, तभी सप्तम… दायित्वबोध-जैनेन्द्र प्रसाद रविRead more

Spread the love