कर्ज वाली लड़की-एम एस हुसैन

कर्ज़ वाली लड़की

          एक दिन एक 15 साल के लड़के ने अपने पिताजी से कहा- “पिताजी दीदी के होने वाले ससुर और सास कल आ रहे हैं”। अभी जीजा जी ने फोन पर बताया। उसकी बड़ी बहन की सगाई कुछ दिन पहले एक अच्छे घर में तय हुई थी। माधव जी पहले से ही उदास बैठे थे धीरे से बोले- हाँ बेटा.. उनका कल ही फोन आया था कि वो एक दो दिन में दहेज की बात करने आ रहे हैं। बोले हैं- दहेज के बारे में आप से ज़रूरी बात करनी है।

बड़ी मुश्किल से यह अच्छा लड़का मिला है, कल को उनकी दहेज की मांग इतनी ज़्यादा हो कि मैं पूरी नही कर पाया तो ? कहते कहते उनकी आँखें भर आइ।

घर के हर एक शख्स के मन व चेहरे पर फिक्र की लकीरें साफ दिखाई दे रही थी। लड़की भी उदास हो गयी।

अगले दिन समधी-समधन आए। उनकी बखूबी स्वागत किया गया।

कुछ देर बैठने के बाद लड़के के पिता ने लड़की के पिता से कहा- “माधव जी अब काम की बात हो जाए”।

माधव जी की धड़कन बढ़ गई। बोले- हाँ हाँ.. समधी जी ज़रूर!

लड़के के पिता ने धीरे से अपनी कुर्सी माधव जी की ओर खिसकाई ओर धीरे से उनके कान में बोले। माधव जी मुझे दहेज के बारे बात करनी है!

माधव जी हाथ जोड़ते हुए आँखों में पानी लिए हुए बोले बताईए समधी जी, जो आपको अच्छा लगे, मैं पूरी कोशिश करूंगा।

समधी जी ने धीरे से माधव जी का हाथ अपने हाथों से दबाते हुये बस इतना ही कहा-

आप लड़की की बिदाई में कुछ भी देगें या ना भी देंगे, थोड़ा देंगे या ज़्यादा देंगे, मुझे सब स्वीकार है पर कर्ज लेकर आप एक रुपया भी दहेज मत देना,  वो मुझे स्वीकार नहीं।

क्योकि जो बेटी अपने बाप को कर्ज में डुबो दे वैसी “कर्ज वाली लड़की” मुझे स्वीकार नही।

मुझे बिना कर्ज वाली बहू ही चाहिए जो मेरे यहाँ आकर मेरे घर को सुशीलता और संस्कृति से भर देगी।

माधव जी हैरान हो गए। उनसे गले मिलकर बोले- समधी जी बिल्कुल ऐसा ही होगा!

सीख :- कर्ज वाली लड़की न कोई बिदा करें न ही कोई स्वीकार करे।

आज के दिनो मे बहुत सारे माँ-बाप परेशान हैं। लोग दहेज मांग रहे है। बहुत सारी लड़कियाँ बिना शादी के घरों मे बैठी हैं क्योंकि उनके पास पैसे नहीं हैं।

गरीबो से विवाह करो, अमीरो के लिए तो लाईन लगी है!

एम एस हुसैन
उ. म. वि. छोटकर कटरा
मोहनिया कैमूर

 

Spread the love

23 thoughts on “कर्ज वाली लड़की-एम एस हुसैन

  1. बहुत सुंदर आलेख है आपका ।

    1. आप लोगों का आशीर्वाद है ।सर

  2. Bhahut khub … Ek nayi soch Jo har ek maa baap ke liye jinka Puri khyal dahej me duba rahta hai apne bete ko lekar ..
    Every parants should learn a lesson from this story

  3. Bhahut khub … Ek nayi soch Jo har ek maa baap ke liye jinka Puri khyal dahej me duba rahta hai apne bete ko lekar ..
    Every parants should learn a lesson from this story

  4. हौसला अफजाई के लिए आप सबों का सादर आभार ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: