धैर्य वन मुर्गी की-लवली कुमारी

धैर्य वन मुर्गी की           एक दिन मैं खिड़की से झांक रही थी कि मेरी नजर उस वन मुर्गी पर पड़ी जो मेरे घर के पोखर… धैर्य वन मुर्गी की-लवली कुमारीRead more

Spread the love

महामारी और शिक्षा-कुमारी निरुपमा

महामारी और शिक्षा             वैसे तो विश्व पहले भी कई महामारी का दंश झेल चुका है। 1720 का मार्सिले प्लेग, 1820 का फर्स्ट हैजा, 1920… महामारी और शिक्षा-कुमारी निरुपमाRead more

Spread the love

आओ हम योग करें-अशोक कुमार

आओ हम योग करें           साथियों योग शब्द की उत्पत्ति संस्कृत धातु युज से हुई है जिसका मतलब व्यक्तिगत चेतना होता है। आज हमलोगों के बीच… आओ हम योग करें-अशोक कुमारRead more

Spread the love

करें योग रहें स्वस्थ-सुरेश कुमार गौरव 

  करें योग रहें स्वस्थ            वर्तमान समय में पूरा विश्व कोरोना  महामारी से जूझ रहा है। इसके अलावे विश्व जनित कई और बीमारियों ने मानव… करें योग रहें स्वस्थ-सुरेश कुमार गौरव Read more

Spread the love

योग और स्वास्थ्य-लवली कुमारी

योग और स्वास्थ्य           योग एक पूर्ण विज्ञान, जीवन शैली, चिकित्सा पद्धति एवं एक पूर्ण अध्यात्म विद्या है। जिसे करोड़ों वर्ष पूर्व भारत के प्रज्ञावान ऋषि-मुनियों… योग और स्वास्थ्य-लवली कुमारीRead more

Spread the love

मैं हूं योगदूत-बीनू मिश्रा

मैं हूं योगदूत             21 जून को दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाता है। व्युत्पत्ति के अनुसार ‘योग’ शब्द का… मैं हूं योगदूत-बीनू मिश्राRead more

Spread the love

योग की महिमा-सुधीर कुमार

योग की महिमा           रमेश चन्द्र सिन्हा हाल ही में बैंक से सेवा निवृत्त हुए थे। मजबूत कद काठी, स्वस्थ शरीर काले घुंघराले बाल। लगता नहीं… योग की महिमा-सुधीर कुमारRead more

Spread the love

भरत चरित्र में त्याग संयम धैर्य और ईश्वर प्रेम-मनोज कुमार दुबे

भरत चरित्र में त्याग संयम धैर्य और ईश्वर प्रेम    भरत राम संवादु सुनि सकल सुमंगल मूल। सुर स्वारथी सराहि कुल बरषत सुरतरु फूल॥ धन्य भरत जय राम गोसाईं। कहत… भरत चरित्र में त्याग संयम धैर्य और ईश्वर प्रेम-मनोज कुमार दुबेRead more

Spread the love

कृतज्ञता-कुमारी निरुपमा

कृतज्ञता             सौरभ आज अपने खिड़की पर उदास बैठा था। खिड़की के सामने बेल का पेड़ था जिसे आज मजदूर काटने आएंगे। पापा चार दिन… कृतज्ञता-कुमारी निरुपमाRead more

Spread the love

हमारी संस्कृति का प्रतीक गंगा-देव कांत मिश्र ‘दिव्य’

 हमारी संस्कृति का प्रतीक गंगा पापनाशिनी मोक्षदायिनी पुण्यसलिला अमरतरंगिनी। ताप त्रिविध माँ तू नसावनी तरल तरंग तुंग मन भावनी।।           हमारा देश भारत धर्म व संस्कृति प्रधान… हमारी संस्कृति का प्रतीक गंगा-देव कांत मिश्र ‘दिव्य’Read more

Spread the love